राशिफल

Kumbh History: जानें 1882 के कुंभ में शाही स्नान के लिए पहुंचे थे इतने अखाड़े

प्रयागराज। कुंभ के पहले शाही स्नान में तेरह अखाड़ों ने हिस्सा लिया था। इसके साथ ही किन्नर अखाड़ा भी जूना के साथ शाही स्नान करने पहुंचा। बात करें सन् 1882 के कुंभ की तो , उस समय कुंभ में सिर्फ छह अखाड़े ही थे, जिन्होंने शाही स्नान किया था। तब कल्पवासियों की संख्या भी लगभग 10,000 ही थी, जो अब बढ़कर करीब 10 लाख हो गई है।

क्षेत्रीय अभिलेखागार में मौजूद दस्तावेजों में 1882 के कुंभ में शामिल हुए अखाड़ों का जिक्र किया गया है। इसमें निर्वाणी (नागा गोसाईं) निरंजनी( जूना से संबद्ध), बैरागी, छोटा अखाड़ा( पंचायती उदासी) बड़ा अखाड़ा (पंचायती) निर्मल ( सिख) शामिल है।

Kumbh History: द्वितीय विश्व युद्ध के काले साए में ऐसे हुआ था 1942 का कुंभ

1906 के कुंभ में बैरागी अखाड़े की 3 शाखाओं का जिक्र किया गया है। इसमें निर्वाणी, दिगंबरी, निर्मोही शामिल हैं। क्षेत्रीय अभिलेख अधिकारी अमित अग्निहोत्री बताते हैं कि, 1906 के एक दस्तावेज में जिक्र किया गया है।

 

दस्तावेज कुंभ मेले की व्यवस्था के लिए नियुक्त किए गए डगलस स्ट्रीट द्वारा जारी निर्देश थे। इसमें कुंभ में 400 अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती, मिलिट्री के यूरोपीय और भारतीय सिग्नलर्स की अगुआई में तीन सिग्नल स्टेशन, पुलिस की सहायता के लिए मुख्य स्नान पर्व पर 50 इंफेंट्री की तैनाती और कोतवाली पर फायर स्टेशन का निर्देश थे। दस्तावेज में मौनी अमावस्या पर्व पर 25 लाख लोगों के आने का अनुमान भी लगाया गया था।

Kumbh 2019: जानिए कुंभ के बाद कहां चले जाते हैं नागा साधु, गिरि और पुरी हैं इनके नाम

Source : indiatimes.com

Related Articles